add_circle Create Playlist
BBC Hindi - Raaga.com - A World of Music

BBC Hindi

BBC India

Description

BBC Hindi is part of BBC World Service, best known independent international broadcaster, which reaches to more than 20 million people via Digital, TV, Radio and Social Media. It provides multimedia news content to its audience. Website: www.bbchindi.com (http://www.bbc.co.uk/hindi) Facebook: BBC Hindi (https://www.facebook.com/bbchindi) Twitter: @BBCHindi (http://www.twitter.com/BBCHindi)
999 Episodes Play All Episodes
access_time4 months ago
भारत में सरकारी बैंकों के कर्मचारी दो दिन की हड़ताल पर.

पत्रकार गौरी लंकेश हत्या मामले में आरोपपत्र दाख़िल.

पाकिस्तान में रुपया हुआ कमज़ोर, दुनिया जहान में करेंगे चर्चा.

क्या दसवी-बारहवी की परीक्षा में नंबर अब ज़्यादा दिए जाते हैं?
access_time5 months ago
क्यूबा के नए राष्ट्रपति कनेल का एलान, पूंजीवाद की वापसी की चाह रखने वालों के लिए देश में कोई जगह नहीं

बिहार की राजधानी पटना में बकाया भुगतान को लेकर 15 सौ स्कूलों का कटा बिजली कनेक्शन, गर्मी से बेहाल छात्रों का शिकवा

और

खास रिपोर्ट जोधपुर का खेजड़ली क्यों बना हुआ है पर्यावरण प्रेमियों का तीर्थस्थल
access_time6 months ago
SC-ST एक्ट पर सुप्रीम कोर्ट के आदेश को लेकर दलित संगठनों का आज भारत बंद, रिव्यू पिटीशन दाखिल करेगी केंद्र सरकार

भारत प्रशासित कश्मीर में सुरक्षा बलों और चरमपंथियों की मुठभेड़ में तीन जवानों समेत 20 की मौत, अलगाववादियों ने बुलाया बंद

टीजर-2

और

पश्चिम बंगाल के आसनसोल में पटरी पर लौट रही है ज़िदंगी लेकिन हिंसा के बाद ख़ुद को कितना सुरक्षित महसूस करते हैं लोग

साथ में वुसतुल्लाह ख़ान की पाकिस्तान डायरी और खेल और खिलाड़ी भी
access_time6 months ago
SC-ST एक्ट पर सुप्रीम कोर्ट के आदेश को लेकर दलित संगठनों का आज भारत बंद, रिव्यू पिटीशन दाखिल करेगी केंद्र सरकार

भारत प्रशासित कश्मीर में सुरक्षा बलों और चरमपंथियों की मुठभेड़ में तीन जवानों समेत 20 की मौत, अलगाववादियों ने बुलाया बंद

टीजर-2

और

पश्चिम बंगाल के आसनसोल में पटरी पर लौट रही है ज़िदंगी लेकिन हिंसा के बाद ख़ुद को कितना सुरक्षित महसूस करते हैं लोग

साथ में वुसतुल्लाह ख़ान की पाकिस्तान डायरी और खेल और खिलाड़ी भी
access_time6 months ago
टेक्सट- पश्चिम बंगाल के रानीगंज में बीती 26 मार्च को सांप्रदायिक हिंसा हुई थी. हिंदू और मुसलमान दोनों समुदाय के लोगों को नुकसान उठाना पड़ा था. अब हिंसा की आग बुझ गई है. लेकिन दंगे के दौरान हुए नुक़सान के ज़ख्म हरे हैं जिन्हें भरने में लंबा अर्सा लग सकता है.

सुनिए बीबीसी संवाददाता दिलनवाज़ पाशा की ग्राउंड रिपोर्ट

तस्वीर- रामचंद्र पंडित- क्रेडिट बीबीसी
access_time6 months ago
टेक्सट- पश्चिम बंगाल के रानीगंज में बीती 26 मार्च को सांप्रदायिक हिंसा हुई थी. हिंदू और मुसलमान दोनों समुदाय के लोगों को नुकसान उठाना पड़ा था. अब हिंसा की आग बुझ गई है. लेकिन दंगे के दौरान हुए नुक़सान के ज़ख्म हरे हैं जिन्हें भरने में लंबा अर्सा लग सकता है.

सुनिए बीबीसी संवाददाता दिलनवाज़ पाशा की ग्राउंड रिपोर्ट

तस्वीर- रामचंद्र पंडित- क्रेडिट बीबीसी
access_time6 months ago
महेंद्र सिंह धोनी से कहीं पहले भारतीय क्रिकेट टीम के विकेटकीपर हुआ करते थे फ़ारुख़ मानेकशॉ इंजीनयर. फ़ारुख़ न सिर्फ़ दुनिया के बेहतरीन विकेटकीपर थे, बल्कि बहुत ही स्टाइलिश और आक्रामक बल्लेबाज़ भी थे. हाल ही में कोलिन इवांस ने उनकी जीवनी लिखी है – ‘फ़ारुख़ – द क्रिकेटिंग कैवेलियर’. आज की विवेचना में रेहान फ़ज़ल नज़र डाल रहे हैं फ़ारुख़ इंजीनयर के क्रिकेट जीवन के कुछ दिलचस्प पहलुओं पर
access_time6 months ago
महेंद्र सिंह धोनी से कहीं पहले भारतीय क्रिकेट टीम के विकेटकीपर हुआ करते थे फ़ारुख़ मानेकशॉ इंजीनयर. फ़ारुख़ न सिर्फ़ दुनिया के बेहतरीन विकेटकीपर थे, बल्कि बहुत ही स्टाइलिश और आक्रामक बल्लेबाज़ भी थे. हाल ही में कोलिन इवांस ने उनकी जीवनी लिखी है – ‘फ़ारुख़ – द क्रिकेटिंग कैवेलियर’. आज की विवेचना में रेहान फ़ज़ल नज़र डाल रहे हैं फ़ारुख़ इंजीनयर के क्रिकेट जीवन के कुछ दिलचस्प पहलुओं पर
access_time7 months ago
सफ़ेद बुर्राक कमीज़ और पतलून और जूते, सफ़ेद ही मर्सिडीज़ कार, उंगलियों के बीच दबी 555 की सिगरेट और पीछे की ओर मुड़े हुए बाल- ये छवि थी 60 और 70 के दशक में मुंबई अंडरवर्ल्ड पर राज करने वाले हाजी मस्तान की. मशहूर ‘डॉन’ होने के बावजूद मस्तान ने अपनी ज़िदगी में कभी कोई पिस्टल नहीं उठाई और न ही अपने हाथ से कभी कोई गोली चलाई. हाजी मस्तान की 92 वीं वर्षगाँठ पर सुनिए रेहान फ़ज़ल की विवेचना बीबीसी हिंदी रेडियो पर शाम साढ़े सात बजे
access_time7 months ago
सफ़ेद बुर्राक कमीज़ और पतलून और जूते, सफ़ेद ही मर्सिडीज़ कार, उंगलियों के बीच दबी 555 की सिगरेट और पीछे की ओर मुड़े हुए बाल- ये छवि थी 60 और 70 के दशक में मुंबई अंडरवर्ल्ड पर राज करने वाले हाजी मस्तान की. मशहूर ‘डॉन’ होने के बावजूद मस्तान ने अपनी ज़िदगी में कभी कोई पिस्टल नहीं उठाई और न ही अपने हाथ से कभी कोई गोली चलाई. हाजी मस्तान की 92 वीं वर्षगाँठ पर सुनिए रेहान फ़ज़ल की विवेचना बीबीसी हिंदी रेडियो पर शाम साढ़े सात बजे
access_time7 months ago
नेताजी सुभाष चंद्र बोस ने अपना पूरा जीवन भारत की आज़ादी के लिए न्योछावर कर दिया. 1945 में ताइवान से जापान जाते हुए उनका एक विमान दुर्घटना में निधन हो गया था. हांलाकि कई हल्कों में ये संदेह व्यक्त किया गया कि नेताजी की मौत उस विमान दुर्धटना में हुई थी या नहीं. हाल ही में वरिष्ठ पत्रकार आशिष रे की एक पुस्तक प्रकाशित हुई है ‘ Laid to rest – the controversy over Subhash Chandra Bose’s death ’ जिसमें तमाम साक्ष्यों के आधार पर बताया गया है कि नेताजी वास्तव में उस विमान दुर्घटना में ही मारे गए थे. नेताजी के जीवन के आखिरी 48 घंटों पर रोशनी डाल रहे हैं रेहान फ़ज़ल विवेचना में
access_time7 months ago
नेताजी सुभाष चंद्र बोस ने अपना पूरा जीवन भारत की आज़ादी के लिए न्योछावर कर दिया. 1945 में ताइवान से जापान जाते हुए उनका एक विमान दुर्घटना में निधन हो गया था. हांलाकि कई हल्कों में ये संदेह व्यक्त किया गया कि नेताजी की मौत उस विमान दुर्धटना में हुई थी या नहीं. हाल ही में वरिष्ठ पत्रकार आशिष रे की एक पुस्तक प्रकाशित हुई है ‘ Laid to rest – the controversy over Subhash Chandra Bose’s death ’ जिसमें तमाम साक्ष्यों के आधार पर बताया गया है कि नेताजी वास्तव में उस विमान दुर्घटना में ही मारे गए थे. नेताजी के जीवन के आखिरी 48 घंटों पर रोशनी डाल रहे हैं रेहान फ़ज़ल विवेचना में
access_time8 months ago
क्या लोकसभा और राज्य विधानसभाओं के चुनाव एक साथ करवाए जाने चाहिए? 

नरेंद्र मोदी सरकार का कहना है बार बार चुनाव करवाने से ख़र्च बढ़ता है.

पर कितना व्यावहारिक है ये उपाय और इसका क्या फ़ायदा होगा.

चर्चा में हिस्सा लिया वरिष्ठ पत्रकार अंबिकानंद सहाय और आप श्रोताओं ने
access_time8 months ago
क्या लोकसभा और राज्य विधानसभाओं के चुनाव एक साथ करवाए जाने चाहिए? 

नरेंद्र मोदी सरकार का कहना है बार बार चुनाव करवाने से ख़र्च बढ़ता है.

पर कितना व्यावहारिक है ये उपाय और इसका क्या फ़ायदा होगा.

चर्चा में हिस्सा लिया वरिष्ठ पत्रकार अंबिकानंद सहाय और आप श्रोताओं ने
access_time8 months ago
मलका पुखराज कभी भी कश्मीर के महाराजा हरि सिंह को नहीं भूलीं. जब उनकी आत्मकथा छप रही थी तो उनसे पूछा गया कि आप इसे किसे समर्पित करना चाहेंगी, तो उन्होंने बिना पलक झपकाए जवाब दिया था, महाराज हरि सिंह. उनके बेटे डाक्टर कर्ण सिंह बताते हैं कि 28 साल पहले जब वो दिल्ली के हमारे घर आई थीं, तो उन्होंने मुझे भीगी आँखों के साथ 100 रुपए नज़राने में दे कर कहा था, ‘ आपके घर का बहुत नमक खाया है मैंने !’ मलका पुखराज की 14 वीं पुण्य तिथि पर सुनिए रेहान फ़ज़ल की विवेचना
access_time8 months ago
मलका पुखराज कभी भी कश्मीर के महाराजा हरि सिंह को नहीं भूलीं. जब उनकी आत्मकथा छप रही थी तो उनसे पूछा गया कि आप इसे किसे समर्पित करना चाहेंगी, तो उन्होंने बिना पलक झपकाए जवाब दिया था, महाराज हरि सिंह. उनके बेटे डाक्टर कर्ण सिंह बताते हैं कि 28 साल पहले जब वो दिल्ली के हमारे घर आई थीं, तो उन्होंने मुझे भीगी आँखों के साथ 100 रुपए नज़राने में दे कर कहा था, ‘ आपके घर का बहुत नमक खाया है मैंने !’ मलका पुखराज की 14 वीं पुण्य तिथि पर सुनिए रेहान फ़ज़ल की विवेचना
access_time8 months ago
भाषण सुने जाने के लिए दिए जाते हैं. लोगों पर असर छोड़ने के लिए वो शब्दों के ही मोहताज नहीं होते. आपको शब्दों को बोलने का ढ़ंग भी आना चाहिए. विवेकानंद से ले कर जवाहरलाल नेहरू, हीरेन मुखर्जी, अटलबिहारी वाजपेई और नरेंद्र मोदी जैसे कितने ही राजनेता हुए हैं, जिन्होंने अपनी वाकशक्ति या भाषण कला से लोगों का दिल जीता है. आज की विवेचना में रेहान फ़ज़ल नज़र डाल रहे हैं उन भाषणों पर जिन्होंने भारतवासियों पर सबसे धिक असर डाला है
access_time8 months ago
भाषण सुने जाने के लिए दिए जाते हैं. लोगों पर असर छोड़ने के लिए वो शब्दों के ही मोहताज नहीं होते. आपको शब्दों को बोलने का ढ़ंग भी आना चाहिए. विवेकानंद से ले कर जवाहरलाल नेहरू, हीरेन मुखर्जी, अटलबिहारी वाजपेई और नरेंद्र मोदी जैसे कितने ही राजनेता हुए हैं, जिन्होंने अपनी वाकशक्ति या भाषण कला से लोगों का दिल जीता है. आज की विवेचना में रेहान फ़ज़ल नज़र डाल रहे हैं उन भाषणों पर जिन्होंने भारतवासियों पर सबसे धिक असर डाला है 
access_time8 months ago
हरिवंशराय बच्चन तू न रुकेगा कभी ..

आज के बहुत से लोग हरिवंशराय बच्चन को शायद अमिताभ बच्चन के पिता के रूप में ज़्यादा जानें, लेकिन अमिताभ के जन्म से कई साल पहले हरिवंशराय बच्चन की गिन्ती हिंदी साहित्य के सबसे लोकप्रिय कवियों में होने लगी थी. जब उनकी कालजई रचना ‘मधुशाला’ प्रकाशित हुई तो पाठकों ने अनुमान लगाया कि इसका रचियता तो हमेशा शराब के नशे में चूर रहता होगा. लेकिन हक़ीकत ये है कि बच्चन ने ताउम्र शराब को हाथ नहीं लगाया. हरिवंशराय बच्चन की 15 वीं पुण्य तिथि पर उनके जीवन से जुड़े दिलचस्प पहलुओं को याद कर रहे हैं रेहान फ़ज़ल आज की विवेचना में
access_time8 months ago
हरिवंशराय बच्चन तू न रुकेगा कभी ..

आज के बहुत से लोग हरिवंशराय बच्चन को शायद अमिताभ बच्चन के पिता के रूप में ज़्यादा जानें, लेकिन अमिताभ के जन्म से कई साल पहले हरिवंशराय बच्चन की गिन्ती हिंदी साहित्य के सबसे लोकप्रिय कवियों में होने लगी थी. जब उनकी कालजई रचना ‘मधुशाला’ प्रकाशित हुई तो पाठकों ने अनुमान लगाया कि इसका रचियता तो हमेशा शराब के नशे में चूर रहता होगा. लेकिन हक़ीकत ये है कि बच्चन ने ताउम्र शराब को हाथ नहीं लगाया. हरिवंशराय बच्चन की 15 वीं पुण्य तिथि पर उनके जीवन से जुड़े दिलचस्प पहलुओं को याद कर रहे हैं रेहान फ़ज़ल आज की विवेचना में
access_time9 months ago
पाकिस्तान की राजनीति में ज़ुल्फ़िकार अली भुट्टो को एक ‘टाइटन’ की संज्ञा दी जाती है. अपने ज़माने में उनकी गिन्ती दुनिया के सबसे बुद्धिमान और पढ़े लिखे नेताओं में होती थी. 1977 में एक सैनिक विद्रोह में जनरल ज़िया उल हक़ ने उनका तख़्ता पलट दिया और दो साल बाद एक विवादास्पद मुक़दमें के बाद उन्हें फांसी पर चढ़ा दिया गया. ज़ुल्फ़िकार अली भुट्टो की 90 वी जयंती पर उनके जीवन से जुड़े महत्वपूर्ण प्रसंगों को याद कर रहे हैं हैं रेहान फ़ज़ल विवेचना में
access_time9 months ago
पाकिस्तान की राजनीति में ज़ुल्फ़िकार अली भुट्टो को एक ‘टाइटन’ की संज्ञा दी जाती है. अपने ज़माने में उनकी गिन्ती दुनिया के सबसे बुद्धिमान और पढ़े लिखे नेताओं में होती थी. 1977 में एक सैनिक विद्रोह में जनरल ज़िया उल हक़ ने उनका तख़्ता पलट दिया और दो साल बाद एक विवादास्पद मुक़दमें के बाद उन्हें फांसी पर चढ़ा दिया गया. ज़ुल्फ़िकार अली भुट्टो की 90 वी जयंती पर उनके जीवन से जुड़े महत्वपूर्ण प्रसंगों को याद कर रहे हैं हैं रेहान फ़ज़ल विवेचना में 
access_time9 months ago
अगर रघु राय को भारत का महानतम जीवित फ़ोटोग्राफ़र कहा जाए तो अधिकतर लोगों को आपत्ति नहीं होगी.
पिछले पचास सालों में रघु राय के कैमरे से ऐसी अद्भुत तस्वीरें खीची गई हैं जिनका पूरी दुनिया लोहा मानती है.
हाल ही में उनकी बेटी अवनि राय ने उनके ऊपर एक डॉकुमेंट्री बनाई है रघु राय- एन अनफ़्रेम्ड पोर्टरेट जिसमें उनके फोटोग्राफ़ी करियर के महत्वपूर्ण पड़ावों को चित्रित किया गया है
विवेचना में रेहान फ़ज़ल नज़र डाल रहे हैं रघु राय द्वारा खींचे गए कुछ चर्चित चित्रों पर
access_time9 months ago
अगर रघु राय को भारत का महानतम जीवित फ़ोटोग्राफ़र कहा जाए तो अधिकतर लोगों को आपत्ति नहीं होगी.
पिछले पचास सालों में रघु राय के कैमरे से ऐसी अद्भुत तस्वीरें खीची गई हैं जिनका पूरी दुनिया लोहा मानती है.
हाल ही में उनकी बेटी अवनि राय ने उनके ऊपर एक डॉकुमेंट्री बनाई है रघु राय- एन अनफ़्रेम्ड पोर्टरेट जिसमें उनके फोटोग्राफ़ी करियर के महत्वपूर्ण पड़ावों को चित्रित किया गया है
विवेचना में रेहान फ़ज़ल नज़र डाल रहे हैं रघु राय द्वारा खींचे गए कुछ चर्चित चित्रों पर
access_time10 months ago
जया जेटली के साथ कई विशेषण जोड़े जा सकते हैं- पारंपरिक कला और शिल्प की विशेषज्ञ, लेखिका, एनडीए-1 के प्रमुख घटक दल समता पार्टी की पूर्व अध्यक्ष और तेज़तर्रार नेता जार्ज फ़र्नान्डेस की निकट सहयोगी. हाल ही में जया जेटली की आत्मकथा प्रकाशित हुई है- ‘ Life among the scorpions, Memoirs of a woman in Indian Politics’, जिसमें उन्होंने अपने घटनापूर्ण जीवन पर बहुत बेबाकी से नज़र दौड़ाई है. विवेचना में रेहान फ़ज़ल नज़र डाल रहे हैं जया जेटली की इस बहुचर्चित पुस्तक पर
access_time10 months ago
जया जेटली के साथ कई विशेषण जोड़े जा सकते हैं- पारंपरिक कला और शिल्प की विशेषज्ञ, लेखिका, एनडीए-1 के प्रमुख घटक दल समता पार्टी की पूर्व अध्यक्ष और तेज़तर्रार नेता जार्ज फ़र्नान्डेस की निकट सहयोगी. हाल ही में जया जेटली की आत्मकथा प्रकाशित हुई है- ‘ Life among the scorpions, Memoirs of a woman in Indian Politics’, जिसमें उन्होंने अपने घटनापूर्ण जीवन पर बहुत बेबाकी से नज़र दौड़ाई है. विवेचना में रेहान फ़ज़ल नज़र डाल रहे हैं जया जेटली की इस बहुचर्चित पुस्तक पर
access_time10 months ago
जया जेटली के साथ कई विशेषण जोड़े जा सकते हैं- पारंपरिक कला और शिल्प की विशेषज्ञ, लेखिका, एनडीए-1 के प्रमुख घटक दल समता पार्टी की पूर्व अध्यक्ष और तेज़तर्रार नेता जार्ज फ़र्नान्डेस की निकट सहयोगी. हाल ही में जया जेटली की आत्मकथा प्रकाशित हुई है- ‘ Life among the scorpions, Memoirs of a woman in Indian Politics’, जिसमें उन्होंने अपने घटनापूर्ण जीवन पर बहुत बेबाकी से नज़र दौड़ाई है. विवेचना में रेहान फ़ज़ल नज़र डाल रहे हैं जया जेटली की इस बहुचर्चित पुस्तक पर
access_time11 months ago
तेंतीस साल पहले 29 अक्तूबर, 1974 को ज़ाएर की राजधानी किंशासा में विश्व हैवी वेट बॉक्सिंग का महानतम मुकाबला हुआ था जिसमें मोहम्मद अली ने तत्कालीन विश्व चैंपियन जॉर्ज फ़ोरमैन को नॉक आउट कर दूसरी बार विश्व ख़िताब जीता था. इस मुकाबले को ‘ रंबल इन द जंगल’ के नाम से भी जाना जाता है. आज की विवेचना में रेहान फ़ज़ल याद कर रहे हैं उस ऐतिहासिक मुकाबले को
access_time11 months ago
तेंतीस साल पहले 29 अक्तूबर, 1974 को ज़ाएर की राजधानी किंशासा में विश्व हैवी वेट बॉक्सिंग का महानतम मुकाबला हुआ था जिसमें मोहम्मद अली ने तत्कालीन विश्व चैंपियन जॉर्ज फ़ोरमैन को नॉक आउट कर दूसरी बार विश्व ख़िताब जीता था. इस मुकाबले को ‘ रंबल इन द जंगल’ के नाम से भी जाना जाता है. आज की विवेचना में रेहान फ़ज़ल याद कर रहे हैं उस ऐतिहासिक मुकाबले को
access_time11 months ago
तेंतीस साल पहले 29 अक्तूबर, 1974 को ज़ाएर की राजधानी किंशासा में विश्व हैवी वेट बॉक्सिंग का महानतम मुकाबला हुआ था जिसमें मोहम्मद अली ने तत्कालीन विश्व चैंपियन जॉर्ज फ़ोरमैन को नॉक आउट कर दूसरी बार विश्व ख़िताब जीता था. इस मुकाबले को ‘ रंबल इन द जंगल’ के नाम से भी जाना जाता है. आज की विवेचना में रेहान फ़ज़ल याद कर रहे हैं उस ऐतिहासिक मुकाबले को
access_time1 year ago
1967 में नाथु ला में चीन से हुई मुठभेड़ में चीन के 300 सैनिक मारे गए थे. 1962 के सिर्फ़ पाँच साल के भीतर भारतीय सैनिकों ने सिद्ध किया कि चीनी भी हाड़ मांस के बने है और उन्हें भी हराया जा सकता है. एक रक्षा विष्लेषक ने सटीक टिप्पणी की, ‘ दिस वाज़ फ़र्स्ट टाइम इंडिया गेव चाइना अ ब्लडी नोज़ !’ नाथु ला मुठभेड़ के 50 वर्ष होने पर सुनिए रेहान फ़ज़ल की विवेचना
access_time1 year ago
1967 में नाथु ला में चीन से हुई मुठभेड़ में चीन के 300 सैनिक मारे गए थे. 1962 के सिर्फ़ पाँच साल के भीतर भारतीय सैनिकों ने सिद्ध किया कि चीनी भी हाड़ मांस के बने है और उन्हें भी हराया जा सकता है. एक रक्षा विष्लेषक ने सटीक टिप्पणी की, ‘ दिस वाज़ फ़र्स्ट टाइम इंडिया गेव चाइना अ ब्लडी नोज़ !’ नाथु ला मुठभेड़ के 50 वर्ष होने पर सुनिए रेहान फ़ज़ल की विवेचना
access_time1 year ago
1967 में नाथु ला में चीन से हुई मुठभेड़ में चीन के 300 सैनिक मारे गए थे. 1962 के सिर्फ़ पाँच साल के भीतर भारतीय सैनिकों ने सिद्ध किया कि चीनी भी हाड़ मांस के बने है और उन्हें भी हराया जा सकता है. एक रक्षा विष्लेषक ने सटीक टिप्पणी की, ‘ दिस वाज़ फ़र्स्ट टाइम इंडिया गेव चाइना अ ब्लडी नोज़ !’ नाथु ला मुठभेड़ के 50 वर्ष होने पर सुनिए रेहान फ़ज़ल की विवेचना
access_time1 year ago
जापान के प्रधानमंत्री शिंज़ो अबे आज से दो दिन के भारत दौरे पर, स्वागत में सजा अहमदाबाद

उत्तर प्रदेश सरकार की ऋण माफी योजना से किसानों को शिकायत, भारतीय जनता पार्टी दे रही है सफाई

और

झारखंड में पुलिसकर्मियों की मदद के लिए नई पहल, हेल्पलाइन के जरिए की जा रही है तनाव घटाने की कोशिश
access_time1 year ago
जापान के प्रधानमंत्री शिंज़ो अबे आज से दो दिन के भारत दौरे पर, स्वागत में सजा अहमदाबाद

उत्तर प्रदेश सरकार की ऋण माफी योजना से किसानों को शिकायत, भारतीय जनता पार्टी दे रही है सफाई

और

झारखंड में पुलिसकर्मियों की मदद के लिए नई पहल, हेल्पलाइन के जरिए की जा रही है तनाव घटाने की कोशिश
access_time1 year ago
जापान के प्रधानमंत्री शिंज़ो अबे आज से दो दिन के भारत दौरे पर, स्वागत में सजा अहमदाबाद

उत्तर प्रदेश सरकार की ऋण माफी योजना से किसानों को शिकायत, भारतीय जनता पार्टी दे रही है सफाई

और

झारखंड में पुलिसकर्मियों की मदद के लिए नई पहल, हेल्पलाइन के जरिए की जा रही है तनाव घटाने की कोशिश
access_time1 year ago
16 साल पहले 9/ 11 से दो दिन पहले अलक़ायदा के चरमपंथियों ने अफ़गानिस्तान के एक बड़े योद्धा और नॉर्दर्न अलायंस के प्रमुख अहमद शाह मसूद की एक आत्मघाती हमले में हत्या कर दी थी. अहमद शाह मसूद ने दस वर्षों तक पहले रूसियों और फिर बाद में तालिबान का सामना किया और उनके रहते पंजशेर पर कभी इनका कब्ज़ा नहीं हो सका. अहमद शाह मसूद के जीवन के विभिन्न पहलुओं और उनकी हत्या पर रोशनी डाल रहे हैं रेहान फ़ज़ल विवेचना में
access_time1 year ago
16 साल पहले 9/ 11 से दो दिन पहले अलक़ायदा के चरमपंथियों ने अफ़गानिस्तान के एक बड़े योद्धा और नॉर्दर्न अलायंस के प्रमुख अहमद शाह मसूद की एक आत्मघाती हमले में हत्या कर दी थी. अहमद शाह मसूद ने दस वर्षों तक पहले रूसियों और फिर बाद में तालिबान का सामना किया और उनके रहते पंजशेर पर कभी इनका कब्ज़ा नहीं हो सका. अहमद शाह मसूद के जीवन के विभिन्न पहलुओं और उनकी हत्या पर रोशनी डाल रहे हैं रेहान फ़ज़ल विवेचना में
access_time1 year ago
16 साल पहले 9/ 11 से दो दिन पहले अलक़ायदा के चरमपंथियों ने अफ़गानिस्तान के एक बड़े योद्धा और नॉर्दर्न अलायंस के प्रमुख अहमद शाह मसूद की एक आत्मघाती हमले में हत्या कर दी थी. अहमद शाह मसूद ने दस वर्षों तक पहले रूसियों और फिर बाद में तालिबान का सामना किया और उनके रहते पंजशेर पर कभी इनका कब्ज़ा नहीं हो सका. अहमद शाह मसूद के जीवन के विभिन्न पहलुओं और उनकी हत्या पर रोशनी डाल रहे हैं रेहान फ़ज़ल विवेचना में
access_time1 year ago
45 साल पहले 5 सितंबर, 1972 को म्यूनिख़ ओलंपिक के दौरान कुछ फ़लस्तीनी चरमपंथियों ने 11 इसराएली खिलाड़ियों को बंधक बना लिया था. करीब 18 घंटे बाद जब जर्मन सुरक्षाकर्मियों ने इन बंधकों को छुड़ाने की कोशिश की तो सभी बंधक और 5 फ़लस्तीनी चरमपंथी मारे गए. दुनिया को हिला कर रख देने वाला क्या था पूरा मामला, बता रहे हैं रेहान फ़ज़ल आज की विवेचना में
access_time1 year ago
45 साल पहले 5 सितंबर, 1972 को म्यूनिख़ ओलंपिक के दौरान कुछ फ़लस्तीनी चरमपंथियों ने 11 इसराएली खिलाड़ियों को बंधक बना लिया था. करीब 18 घंटे बाद जब जर्मन सुरक्षाकर्मियों ने इन बंधकों को छुड़ाने की कोशिश की तो सभी बंधक और 5 फ़लस्तीनी चरमपंथी मारे गए. दुनिया को हिला कर रख देने वाला क्या था पूरा मामला, बता रहे हैं रेहान फ़ज़ल आज की विवेचना में
access_time1 year ago
45 साल पहले 5 सितंबर, 1972 को म्यूनिख़ ओलंपिक के दौरान कुछ फ़लस्तीनी चरमपंथियों ने 11 इसराएली खिलाड़ियों को बंधक बना लिया था. करीब 18 घंटे बाद जब जर्मन सुरक्षाकर्मियों ने इन बंधकों को छुड़ाने की कोशिश की तो सभी बंधक और 5 फ़लस्तीनी चरमपंथी मारे गए. दुनिया को हिला कर रख देने वाला क्या था पूरा मामला, बता रहे हैं रेहान फ़ज़ल आज की विवेचना में
access_time1 year ago
कई दिनों की बातचीत के बाद तमिलनाडु में एआईएडीएमके के दोनों धड़ों का विलय. पनीरसेलवम उप मुख्यमंत्री बनाए गए
एक रिएल्टी चेक करेंगे सीएजी ने रेल में रेल में बिस्तरों और सफ़ाई पर जो सवाल उठाए हैं वो सही हैं या नहीं
ज़िक्र होगा बिहार की बाढ़ का और होंगे आपके पत्रों के उत्तर भी
access_time1 year ago
कई दिनों की बातचीत के बाद तमिलनाडु में एआईएडीएमके के दोनों धड़ों का विलय. पनीरसेलवम उप मुख्यमंत्री बनाए गए
एक रिएल्टी चेक करेंगे सीएजी ने रेल में रेल में बिस्तरों और सफ़ाई पर जो सवाल उठाए हैं वो सही हैं या नहीं
ज़िक्र होगा बिहार की बाढ़ का और होंगे आपके पत्रों के उत्तर भी
access_time1 year ago
कई दिनों की बातचीत के बाद तमिलनाडु में एआईएडीएमके के दोनों धड़ों का विलय. पनीरसेलवम उप मुख्यमंत्री बनाए गए
एक रिएल्टी चेक करेंगे सीएजी ने रेल में रेल में बिस्तरों और सफ़ाई पर जो सवाल उठाए हैं वो सही हैं या नहीं
ज़िक्र होगा बिहार की बाढ़ का और होंगे आपके पत्रों के उत्तर भी
access_time1 year ago
बीते बुधवार को दिग्गज फोटोग्राफ़र एस पॉल का निधन हो गया. मशहूर फ़ोटोग्राफ़र रघु राय उनके छोटे भाई हैं. बीबीसी संवाददाता प्रदीप कुमार से बातचीत में रघु राय याद कर रहे हैं अपने बड़े भाई को.
access_time1 year ago
बीते बुधवार को दिग्गज फोटोग्राफ़र एस पॉल का निधन हो गया. मशहूर फ़ोटोग्राफ़र रघु राय उनके छोटे भाई हैं. बीबीसी संवाददाता प्रदीप कुमार से बातचीत में रघु राय याद कर रहे हैं अपने बड़े भाई को.
access_time1 year ago
बीते बुधवार को दिग्गज फोटोग्राफ़र एस पॉल का निधन हो गया. मशहूर फ़ोटोग्राफ़र रघु राय उनके छोटे भाई हैं. बीबीसी संवाददाता प्रदीप कुमार से बातचीत में रघु राय याद कर रहे हैं अपने बड़े भाई को.
access_time1 year ago
गोरखपुर ज़िले के बीआरडी मेडिकल कॉलेज में कथित तौर पर ऑक्सीजन की सप्लाई बंद हो जाने से लगभग बीस बच्चों के मरने की ख़बर है.
समाचार एजेंसी पीटीआई के मुताबिक गोरखपुर के ज़िलाधिकारी राजीव रौतेला का कहना है कि पिछले 48 घंटों में अलग-अलग कारणों की वजह से 30 बच्चे मारे गए हैं.
access_time1 year ago
गोरखपुर ज़िले के बीआरडी मेडिकल कॉलेज में कथित तौर पर ऑक्सीजन की सप्लाई बंद हो जाने से लगभग बीस बच्चों के मरने की ख़बर है.
समाचार एजेंसी पीटीआई के मुताबिक गोरखपुर के ज़िलाधिकारी राजीव रौतेला का कहना है कि पिछले 48 घंटों में अलग-अलग कारणों की वजह से 30 बच्चे मारे गए हैं.
Comments